मुख्य पृष्ठ विविध एवं विज्ञान

विविध एवं विज्ञान

विज्ञानं, संस्कृति, पर्यावरण, समाज, संस्कृति इत्यादि से जुड़े विभिन्न ज्ञानवर्धक और रोचक लेख

old book smell

किताबों की महक और उनका रसायन शास्त्र (HinfoGraphic)

पुस्तकें - नयी या पुरानी, इनकी अपनी ही एक खुशबू होती है जो विभिन्न उपस्थित रसायनों के कारण आती है. इनका मुख्य स्रोत खुद कागज, चिपकाने हेतु इस्तेमाल किया गया गोंद और स्याही है जिनका संबंध पुस्तक निर्माण से है. आइये इसे हम HinfoGraphic के द्वारा समझते हैं।

कॉस्मिक कैलेंडर और हमारा ब्रह्माण्ड – इन्फोग्राफिक

कल्पना कीजिये कि ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति से लेकर अभी तक के समय को एक वर्ष में संकुचित कर दिया जाए तब एक सकेंड कितने वर्षों के बराबर होगा? ध्यातव्य है कि हमारा ब्रह्माण्ड लगभग 13.8 अरब वर्ष पुराना है. महाविस्फोट से लेकर वर्तमान तक सभी महत्वपूर्ण घटनाओं के घटित होने के क्षण का सरलता से अनुमान हम इसी 'कॉस्मिक कैलेंडर' (Cosmic Calendar) द्वारा लगा सकते हैं एवं घटनाक्रम को समझ सकते हैं.
jan gan man national anthem india

जन गण मन – हमारा राष्ट्रगान तथा सही उच्चारण

गण से गन, विधाता से बिधाता, सिंध से सिंधु, द्रविड़ से द्राविड, बंग से बंगा, तरंग से तरंगा इत्यादि ऐसी अक्षम्य त्रुटियाँ जो हमारे राष्ट्रगान 'जन गण मन' को गाते वक़्त सदा उपस्थित रहती है. Hinfographics की मदद से प्रस्तुत है इसका संशोधित संस्करण.
hyper realistic images and paintings

आप विश्वास नहीं करेंगे कि यह हस्तनिर्मित कलाकृति है

यह कोई कैमरे से ली गई तस्वीर नहीं है ! अत्यंत वास्तविक चित्रों (hyper realistic paintings) की गैलरी जिनमे अधिकांश तस्वीर हाथ से बनायीं गयी है जिसके लिए पेंसिल और कैनवस का उपयोग हुआ है.
solvay conference 1927 facts

विज्ञान जगत की सुप्रसिद्ध तस्वीर जिसकी पुनरावृति कभी न हो पाई

Solvay Conference 1927, International Institute of Physics and Chemistry, Brussels में संपन्न हुई थी जिसमे आइंस्टीन से लेकर मैडम क्यूरी तक ने अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई थी. जानिए क्यों यह तस्वीर इतनी विशिष्ट है.
hindi diwas reality

हिंदी और यथार्थ से परिचय कराते ये कार्टून

इर्शाद कप्तान के कार्टून अत्यधिक मारक क्षमता वाले होते हैं. ऐसे में 'हिंदी दिवस' पर इनके व्यंगात्मक कार्टून बहुत कुछ कहते हैं.
law of unintended consequences

Law of Unintended Consequences – दागा तीर तो आया गोला !

ऐसा कई बार हुआ है या होता आया है जहाँ किसी समस्या के निवारण हेतु उठाये गए कदम ने मूल समस्या को या तो और भी बढ़ा दिया हो या नयी समस्या ने जन्म...